Blog latest

थ्रेडिंग क्या है-चेहरे के अनुरूप आइब्रो बनाने की विधि और घरेलू उपाय

थ्रेडिंग आजकल बहुत ही मशहूर है। दरअसल थ्रेडिंग शरीर के अनचाहे बालों को हटाने का तरीका है। खासकर लड़कियाँ इसका इस्तेमाल अपने आइब्रो को एक सही शेप देने के लिए करती हैं।

हर महिला अपने चेहरे की खूबसूरती को निखारना चाहती है। जिसके लिए महिलायें कितने महंगे महंगे ट्रीटमेंट करती है। जिसमें आइब्रो बनवाना भी चेहरे को खूबसूरत बनाने का हिस्सा है।

लेकिन थ्रेडिंग करते समय बहुत लोगों काफी दर्द भी होता है। आइब्रो बनवाने के बाद वहाँ की त्वचा लाल पड़ जाती है। और कई महिलाओं को तो दाने भी निकल आते हैं। क्योंकि उनको थ्रेडिंग के दौरान बरतने वाली के बारे मे ठीक तरह से जानकारी नहीं होती है।

आइब्रो आप घर पर भी बना सकती हैं। कई महिलायें अपना आइब्रो खुद से बनाती है। जिसमे वो धागे, ब्लेड और वैक्स का इस्तेमाल करती है। ब्लेड से थ्रेडिंग बनाना काफी खतरनाक होता है। इसके लिए बहुत सारी सावधानियाँ बरतनी चाहिए।

यहाँ इस पोस्ट में मैं आपको बताऊँगी की थ्रेडिंग क्या है और थ्रेडिंग के दौरान कौन-कौन सी सावधानियाँ बरतनी चाहिए। इस पोस्ट में आप यह भी जानेंगी की खुद की आइब्रो कैसे बनाएं, धागे से आइब्रो कैसे बनाते हैं और थ्रेडिंग बनाने की मशीन का इस्तेमाल कैसे किया जाता है।

तो आईये सबसे पहले जानते हैं की थ्रेडिंग क्या है!

ये भी पढ़ें: चेहरे पर छोटे छोटे दाने हटाने के उपाय-आजमायें #7 घरेलू नुस्खे|

थ्रेडिंग क्या है

थ्रेडिंग के क्या लाभ है

थ्रेडिंग एक अस्‍थायी बाल हटाने की विधि है, जिसे ज़्यादातर आइब्रोज़, होंठों के आस-पास, चीक्स (गालों) और चिन (ठुड्डी) के बालों को हटाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

थ्रेडिंग नाम कपास के धागों से लिया गया है। आइब्रो बनाने के लिए इन्ही कपास के सूती धागों का इस्तेमाल किया जाता है। जिसमें धागों को मोड़ कर आइब्रो के बालों को लपेट कर एक एक करके जड़ से खिचा जाता है। जिससे आइब्रो के बाल जड़ से उखड़ जाते हैं। और आइब्रो सही आकर में आ जाता है। जिससे चेहरा और अधिक आकर्षक दिखाई देता है।

वैसे थ्रेडिंग बालों को हटाने की पुरानी तकनीकी है। हालांकि इस प्रक्रिया में काफी दर्द होता है लेकिन फिर भी, महिलायें आज के आधुनिक युग में भी इसको अपना रही हैं। इसलिए तो धागों से थ्रेडिंग बनाने की तकनीकी आज के दौर में भी बहुत अधिक प्रचलित है।

आजकल धागों से थ्रेडिंग बनाने के अलावा और भी कई तरीके इस्तेमाल होने लगे हैं। जैसे की थ्रेडिंग बनाने की मशीन का इस्तेमाल, वैक्स से आइब्रो बनाना, आइब्रो बनाने में ब्लेड का इस्तेमाल करना इत्यादि।

तो चलिए थ्रेडिंग के इन्ही अलग-अलग तरीकों के बारे में विस्तार से जानते हैं।

ये भी पढ़ें: रुका हुआ पीरियड कैसे आएगा | रुका हुआ पीरियड लाने के घरेलू उपाय

आइब्रो थ्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

थ्रेडिंग कितने प्रकार की होती है

थ्रेडिंग बनाते समय चेहरे के आकार के अनुसार आइब्रो के आकार को चुनना चाहिए। इससे चेहरा बहुत अधिक आकर्षक दिखाई देता है। कई महिलायें चेहरे से विपरीत आइब्रो का चुनाव कर लेती हैं, जो देखने भद्दा लगता है।

लंबे आकार की चेहरे वाली महिलाओं को अपने आइब्रो की आकार को छोटा और सपाट रखना चाहिए। जिससे उनका चेहरा छोटा दिखाई देता है।

वैसे तो चेहरे के आकार के अनुसार आइब्रो को मूल रूप से पाँच आकार में बनाया जाता है। ये आइब्रो के पाँच आकार मूल रूप से चेहरे के आकार को ध्यान में रखकर बनाए जाते हैं।

नीचे दिए गए आइब्रो प्रकार को आप अपने चेहरे के हिसाब से चुन सकती हैं।

1#. गोलाकार आकार

यदि आपके चेहरे का आकार गोलाकार है तो आप अपने आइब्रो की भौहें को उठाकर कर बनवाये। इससे आपका चेहरे भरा हुआ और आकर्षक दिखाई देगा।

2#. चौकोर आकार

जिन महिलाओं का चेहरा चौकोर होता है, उनको भौहों को थोड़ा मोटा करके बनाना चाहिए।जिससे चेहरे की खूबसूरती बढ़ जाती है।

3#. अंडाकार आकार

अंडाकार आकार वाली महिलाओं के चेहरे पर हर तरह के आकार के आइब्रो अच्छे लगते हैं। यदि आपका चेहरा भी अंडाकार है तो आप अपने आइब्रो को हल्का मोटा और नुकीला रखें।

4#. लंबा आकार

5#. हार्ट आकर

दिल के आकार के चेहरे वाली महिलाओं को अपने आइब्रो के आकार को गोलाकार रखना चाहिए। जिससे आपका चेहरा अधिक आकर्षक लगेगा।

आइब्रो थ्रेडिंग बनाने की विधि

आइब्रो बनाने का सबसे प्राचीन तरीका धागा है, जिससे बालों को एक एक करके उखाड़ा जाता है। लेकिन आजकल इसके अलावा भी और भी कई तरीके से आइब्रो जनाए जाने लगे हैं। नीचे दिए गए भिन्न-भिन्न तरीकों से आप अपने आइब्रो बना सकती हैं।

धागे से आइब्रो कैसे बनाते हैं

धागे से आइब्रो बनाने के लिए निम्नलिखित सामानों की जरूरत पड़ेगी। सबसे पहले आप इन सामानों को इकट्टा कर लें। इसके बाद नीचे बताए गए तरीकों से धागे से आइब्रो बनाए।

सामग्री-

थ्रेडिंग धागा, पाउडर, छोटी आइब्रो कंधी, छोटी चिमटी, टोनर।

आइब्रो बनाने की विधि :

  1. सबसे पहले अपने चेहरे को एक अच्छे फेसवास से धुले। इसके बाद उनको सूखे तौलियें से अच्छे से सुखा लें।
  2. जब चेहरा अच्छे से सुख जाए तो अपने आइब्रो पर हल्का-हल्का पाउडर लें, जिससे पसीना ना आये।
  3. इसके बाद आपकी पार्लर वाली ब्यूटिशन अपने उंगलियों में धागे को लपेटेगी और आपके चेहरे के आकार के अनुसार बालों को एक-एक करके उखाड़ना शुरू कर देगी।
  4. यदि आप इसको खुद से करना चाहती है तो शीशे की मदद से एक-एक करके बाल निकाल सकती है। ये क्रिया अनुभव होने पर ही करें।
  5. आइब्रो बनाने के दौरान अपने दोनों हाथों से अपने आइब्रो के आस-पास की त्वचा को खींचकर जोर से पकड़े। टाइट पकड़ने से दर्द कम होता है और त्वचा के कटने का डर भी नहीं रहता है।
  6. आइब्रो बनाते समय अपने अपना सिर सीधा रखें, ज्यादा हिलायें-डुलाएं नहीं।
  7. आइब्रो बन जाने के बाद उसको रगड़ कर पोंछे नहीं। ठंडे साफ पानी से चेहरा धूल कर, आइब्रो और आस-पास की त्वचा पर टोनर लगा लें।

घर बैठे थ्रेडिंग बनाने का तरीका

घर पर आप आइब्रो को कई तरीके से बना सकती है। यदि आपको अच्छे से आइब्रो बनाने आता है तो आप थ्रेडिंग धागे और वैक्स के इस्तेमाल से घर पर भी आइब्रो बना सकती है।

पतली चिमटी की मदद से आईने में देख-देख कर आप आइब्रो बना सकती है। जो मेरे हिसाब से घर पर आइब्रो बनाने के सबसे सुरक्षित है। क्योंकि इसमें आप अपने हिसाब से एक एक करके बाल हटा सकती हैं।

इसके अलावा आप घर पर आइब्रो बनाने के लिए थ्रेडिंग मशीन का इस्तेमाल कर सकती है। लेकिन यदि आपको अनुभव नहीं घर पर खुद से थ्रेडिंग करने का तो आप आइब्रो ना बनाये। क्योंकि इससे आपके आइब्रो का आकार खराब हो सकता है। जो देखने में बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगेगा।

वैक्स की मदद से आइब्रो कैसे बनाये

आइब्रो बनाने के लिए वैक्स का इस्तेमाल भी काफी प्रचलित है। क्योंकि इसमें धागे से बनाने के मुकाबले थोड़ा कम दर्द होता है। लेकिन वैक्स से आइब्रो बनाने के लिए बहुत सावधानियाँ भी बरतना बहुत जरूरी है। चलिए सबसे पहले सामग्री जान लेते हैं-

सामग्री:

वैक्स, पतली वैक्स पट्टी, बर्फ या टोनर, एक कटोरी गरम पानी।

विधि:

  • एक कटोरी में इस्तेमाल करने जितना वैक्स निकाल लें, और गरम पानी के ऊपर कटोरी को रख दें।
  • गरम पानी की जगह आप वैक्स मशीन का भी इस्तेमाल कर सकती है।
  • इसके बाद जब वैक्स गरम होकर पिघल जाए तो उसको अपने हाथ पर लगाकर कर चेक करें की बहुत अधिक गरम तो नहीं है।
  • इसके बाद वैक्स को वैक्स पट्टी पर लगाएं।
  • वैक्स को पट्टी पर लगाने के बाद इसको अपने आइब्रो पर लगायें, जहाँ के बाल आपको हटाने है।
  • इसके बाद त्वचा को टाइट पकड़ कर पट्टी को जोर से खिचे जिससे की बाल एक बार में निकल जाएं।
  • जब सारे बाल निकल जाएं, तो चहरे को ठंडे पानी से धूल लें।
  • इसके बाद अपने चेहरे को पर बर्फ या टोनर लगा लें।

सावधानियाँ

  • ध्यान रखें की वैक्स बहुत अधिक गरम ना हो, नहीं तो आपकी आँख के आस-पास की त्वचा जल सकती है।
  • वैक्स को वैक्स पट्टी पर लगाने से पहले अपने हाथ पर रखकर आजमा लें की वैक्स अधिक गरम तो नहीं है।
  • अपने आइब्रो के जहाँ के बाल आपको हटाने हैं, वहाँ पर वैक्स लगाने से पहले मार्क कर लें।
  • वैक्स पट्टी को आइब्रो पर चिपका कर खींचने से पहले अपनी त्वचा को टाइट पकड़े, जिससे बाल एक बार में निकल जाए।
  • अच्छी गुणवत्ता का वैक्स का इस्तेमाल करें।

थ्रेडिंग के क्या लाभ है

थ्रेडिंग अनचाहे बालों को हटाने का सबसे आसान तरीका है। लेकिन यह अस्थायी होता है। यानि की कुछ समय के बाद जो बाल आपने हटायें वो वापस आ जाते हैं।

थ्रेडिंग की मदद से आइब्रो के बालों को हटाया जाता है, जिसमें कॉटन के धागों का इस्तेमाल किया जाता है। जिससे आइब्रो को एक सही आकार दिया जाता है। चेहरे के आकार के अनुरूप आइब्रो बनाने से चेहरे की खूबसरती में चार-चाँद लग जाता है।

आइब्रो बनाने से क्या नुकसान होता है?

वैसे धागे के मदद आइब्रो बनाने के कोई नुकसान नहीं है। लेकिन किसी-किसी की त्वचा बहुत अधिक कोमल होती है उनको थ्रेडिंग करने से छोटे-छोटे दाने निकल आते हैं। और वहाँ की त्वचा लाल हो जाती है। लेकिन यह कुछ देर के लिए ही रहता है। फिर अपने आप ठीक हो जाता है।

इसके अलावा जो लोग आइब्रो बनाने के वैक्स का इस्तेमाल करते हैं। उनको कई तरह के नुकसान हो सकता है।

जैसे की-

  • त्वचा की बर्न(जलन) होने की समस्या हो सकती है।
  • दाने निकलने की समस्या।
  • त्वचा में लंबे समय तक संक्रमण रहने की समस्या।
  • आइब्रो के बाल का रंग बदलने या सफेद होने का खतरा। इत्यादि।
  • इसलिए अच्छी गुणवत्ता का वैक्स का इस्तेमाल करें।

संबंधित प्रश्न :

थ्रेडिंग के साइड इफेक्ट क्या हैं?

थ्रेडिंग के आमतौर पर कोई भी साइड इफेक्ट नहीं है। लेकिन थ्रेडिंग करते समय यदि त्वचा कट जाए तो संक्रमण का खतरा रहता है। और जिन लोगों का त्वचा अधिक संवेदनशील है उनको थ्रेडिंग के बाद छोटे-छोटे दाने निकल जाते है। इसलिए आइब्रो बनवाने के तुरंत बाद बर्फ जरूर लगायें।

घर में आइब्रो कैसे बनाये?

घर पर आइब्रो बनाने के लिए पतली चिमटी की मदद से आईने में देख-देख कर आप आइब्रो बना सकती है। इसके आलवा धागे और वैक्स की मदद से भी आप अपने आइब्रो को बना सकते हैं। इसके अलावा आप घर

आइब्रो बनाने के बाद क्या लगाते हैं?

आइब्रो बनाने के बाद आप बर्फ और टोनर लगा सकती हैं। बर्फ और टोनर लगाने से थ्रेडिंग के बाद की त्वचा में जलन खतम हो जाती है। और त्वचा में दाने होने का भी खतरा नहीं रहता है। इसके अलावा बर्फ लगाने से त्वचा और भी खूबसूरत लगती है।

निष्कर्ष:

थ्रेडिंग चेहरे को और अधिक आकर्षण दिखाने का एक तरीका है जिससे चेहरा और अधिक सुंदर और आकर्षण दिखाई देने लगता है। आइब्रो बनवाने के लिए कपास से बने धागे का इस्तेमाल किया जाता है।

वैसे थ्रेडिंग बनवाने के कई तरीके हैं। जैसे वैक्स के इस्तेमाल से, ब्लेड के इस्तेमाल से, और थ्रेडिंग बनाने वाली मशीन के इस्तेमाल से आइब्रो बनाया जाता है। लेकिन धागे से आइब्रो बनवाना सबसे आसान और सुरक्षित तरीका है।

इसलिए मैंने इस पोस्ट में थ्रेडिंग बनाने के सही तरीकों को विस्तार से बताया है। जिसका इस्तेमाल करके आप अपने चेहरे के आकार के अनुसार आइब्रो बनवा सकती है। और अपने चेहरे को और आकर्षण बना सकती है।

पोस्ट में बताये गए तरीकों को आजमाये और मुझे कमेन्ट में अपना अनुभव जरूर बतायें। पोस्ट से संबंधित कोई सवाल हो तो वो भी आप पूछ सकती है।

Leave a Comment