पथरी की दवा पतंजलि दिलाये पुराने दर्द से आराम

पथरी के बारे में सुनकर लोग इस बीमारी को ज़्यादा गंभीरता से नहीं लेते है, परंतु जब इसका दर्द होना शुरू होता है, तब इस रोग को लोग गंभीरता से लेते है। ऐसा इसलिए भी क्यों कि आजकल इतनी व्यस्त जीवनशैली है, कि हम अपना खानपान और सेहत पर ध्यान रख नहीं पाते है।

पर आजकल इतना विकास हो गया है, कि इस बीमारी के लिए भी इलाज उपलब्ध है। और इस रोग के लिए ऐसा उपचार मिले जो शरीर को कोई नुकसान न करें, तो हर व्यक्ति इस उपचार को लेना ही चाहेगा।

ऐसे ही हम एक दवा के बारे में आपको जानकारी देने वाले है, जो पूरी  तरह से आयुर्वेदिक और आपके लिए फायदेमंद है। यह पथरी की दवा पतंजलि द्वारा निर्मित है, जो आपको पथरी से निजात और साथ ही अन्य कई बीमारी से छुटकारा देंगी, जो हम अपने लेख के माध्यम से आपको बताएंगे।

इस लेख पढ़िए, और जानिए पथरी से जुड़ी सभी जानकारियां, जो आपके के लिए जरूरी है।

पथरी क्या होता है ?

kidney stones पथरी की दवा पतंजलि

पथरी एक तरह की  बीमारी है,जो  शरीर के कुछ अंगों में हो जाती है  जैसे  किडनी या गॉलब्लैडर के अंदर जिसमें पत्थर जैसा जमा हो जाता  हैं और यह धीरे धीरे  आकार में बढ़ने लग जाता है जब इनका आकार ज्यादा बढ़ जाता है तो इससे दर्द होना शुरू हो जाता है और यह दर्द बहुत ज़्यादा ही  होता है। यह कैल्शियम ऑक्जलेट या अन्य क्षारकणों (Crystals) का एक दूसरे से मिल जाने से बनता है।

और पढ़िए: क्या है कब्ज का रामबाण इलाज पतंजलि?

किडनी और Gall ब्लैडर में पथरी होने के क्या कारण हैं?

किडनी में पथरी का कारण यह है, कि जब शरीर में क्लेसियम की मात्रा ज़्यादा हो जाती है ,जो फिर किडनी में  किडनी स्टोन बनाता है।

ऐसे ही पथरी gall ब्लैडर में होती है, इसका कारण यह है, कि जब शरीर में कोलेस्ट्राल की मात्रा ज़्यादा हो जाती है ।हमारे शरीर का यह एक अंग है, पित्त यानी बायल लिवर और इसका भंडारण गॉल ब्लैडर में होता है।

यह पित्त फैट वाले  भोजन को पचाने में मदद करता है। लेकिन जब पित्त में कोलेस्ट्रॉल और बिलरुबिन की मात्रा ज्यादा हो लगती  है, तो पथरी बन जाती हैं। 

किडनी स्टोन और ब्लैडर स्टोन के क्या लक्षण हैं ? 

किडनी स्टोन

किडनी स्टोन में दर्द होता है, जो लोग इस चीज़ को आम बात समझते है, लेकिन इसके अलावा भी कई लक्षण है :-

  • इसमें पेशाब करते समय समय दर्द बहुत होता है ।
  • पीठ के निचले हिस्से, पेट में दर्द और ऐंठन बहुत ज़्यादा होने लगती है ।
  • और कभी कभी पेशाब के समय  रक्त भी  आने लगता है ।
  •  ऐसे में जी  भी मिचलाने लगता है, और उल्टी भी होने लगती है ।
  •  साथ ही दुर्गन्धयुक्त पेशाब होने लगता है ।
  • ऐसे  में बार-बार पेशाब आना, परंतु खुलकर पेशाब न होना  यह भी एक लक्षण है ।
  •  ऐसे में किसी किसी को, पसीना भी निकलने लगता है, ओर बुखार भी हो जाता है।

ब्लैडर स्टोन 

वैसे  ज़्यादातर लोगों को  ब्लैडर स्टोन के कोई लक्षण दिखाई नहीं देते है ,पर इसके भी लक्षण होते है ।ओर इसका दर्द  खतरनाक भी होता है ।

  • इसमें पित्त की थैली में इंफेक्शन भी हो जाता है,ओर ऐसे में स्टोन नली में फंस जाता है।
  • ऐसे में पेट के  ऊपरी दाए तरह दर्द होने लगता है,कमर दर्द भी होने लगता है ।दाए कंधे में भी दर्द होता है।
  • यह दर्द छाती के आस पास भी ज़्यादा होने लगता है।
  • ब्लैडर स्टोन कर दर्द कुछ मिनटों में भी कम हो जाता है, और कुछ दिन भी लग जाते है। 
Kidney stones symptoms पथरी की दवा पतंजलि

पथरी का क्या इलाज है? 

गुर्दे की पथरी के  इलाज के लिए सबसे पहले शरीर की  जांच ज़रूरी होती है ।इसके लिए कई रेडियोलोजी टेस्ट्स उपलब्ध  है, आज के समय में जैसे अल्ट्रासाउंड जांच सबसे पहले करते है जो काफी जानकारी देती है।

अगर अल्ट्रासाउंड पर पथरी दिखती है या फिर गुर्दे में सूजन मिलती है तो फिर X RAY या रंगीन X RAY किया जाता है। अब  CT स्कैन से भी इसका पता चल जाता है।

PCNL – परक्यूटेनियस नेफ्रोलिथोटॉमी  मरीज की पीठ में बनाये गए एक ट्रैक के माध्यम से गुर्दे में डाले  जाते है । नेफ़्रोस्कोप के माध्यम से रोगी के मूत्र पथ से मध्यम या बड़े आकार के गुर्दे के स्टोन या गुर्दे की पथरी  को हटाने की एक प्रक्रिया है जो पथरी का इलाज है।

ESWL – एक्स्ट्राकोर्पोरियल शॉक वेव लिथोट्रिप्सी स्टोन निकालने का एक सर्जिकल इलाज है। इस प्रक्रिया में एक बाहरी स्त्रोत से ‘हाई फ्रीक्वेंसी साउंड वेव्स’ का इस्तेमाल किया जाता है जिससे स्टोन्स को छोटे टुकड़ों में टूट जाते हैं और मूत्र पथ के ज़रिये बाहर आ निकल जाते है ।

घरेलु नुस्खें 

  • तुलसी को चबाकर खाने से पथरी टुकड़े टुकड़े होकर पेशाब के रास्ते निकल जाती है ।
  • चुलाई का साग खाने से भी यह पथरी निकलती है ।
  • बेलपत्र खाने से या जूस पीने से भी पथरी निकलती है ।
  • राजमा का सेवन करने से भी पथरी से छुटकरा मिलता है ।
  • खजूर को पानी में भिगोकर खाने से भी पथरी से निपटा जा सकता है ।
  • व्हीट ग्रास को पानी में उबालकर ठण्डा कर के  इसको नियमित सेवन करने से गुर्दे की पथरी और गुर्दे से जुड़ी दूसरी बिमारियों में काफी आराम मिलता है,ओर ठीक भी होती है ।

पथरी की दवा पतंजलि-DIVYA ASHMARIHAR KWATH

यह दवा आयुर्वेदिक दवा के संकलन से तैयार हुई है,जो पथरी के दर्द और पथरी को खत्म करती है ,साथ ही इसके अनेक लाभ भी है।पतंजलि के इस प्रोडक्ट से आपको आपकी बीमारी से राहत मिलेगी।

DIVYA ASHMARIHAR KWATH

Ashmarihar- पथरी की दवा पतंजलि
  • Price- ₹90
  • Quantity – 50 gram
  • Treatment: Renal Health
  • Form- Powder

Ingredients

  • Gokhru
    यह एक तरह का फूल जैसा दिखता है ,इसका चूर्ण के रूप में इस्तेमाल करते है ,यह पथरी को निकालने में मदद करता है।
  • Kulathakal
    यह एक तरह का आयुर्वेदिक पोधा है,जिसके बीज़ का प्रयोग पथरी के इलाज में किया जाता है।
  • Varun
    वरुण को किडनी की पथरी को दूर करने वाली एक  प्रभावी औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।  वरुण वृक्ष की छाल का प्रयोग करने से पथरी  मूत्र मार्ग से निकाल जाती है।
  • Punarnava
    यह एक जड़ी बूटी है,जिसका प्रयोग पथरी के इलाज में, यूरिन इंफेक्शन,दिल की बीमारी आदि के लिए चूर्ण के रूप में इस्तेमाल किया जाता है ।
  • Pashanbhed
    पाषाणभेद का उपयोग पथरी के इलाज में किया जाता है। इस जड़ी-बूटी में ऐसे औषधीय गुण हैं जो पथरी को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़कर मूत्र मार्ग से बाहर निकालने में मदद करते हैं।
  • Methi
    मेथी पथरी को गलाने  में मदद करती है।मेथी में एंटी बैक्टीरियल होते हैं, जिससे  मेथी का पानी सर्दी जुकाम या वायरल से बचाने में बहुत मदद करता है ।

DIVYA ASHMARIHAR KWATH के फायदे और नुकसान

फायदे

  • यह दवा गुर्दे की पथरी को निकलती है।
  • मूत्राधिक्य मुप्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करती है।
  • मधुमेह के व्यक्ति के लिए यह दवा काफी अच्छी है, यह मधुमेह की बीमारी को कम करने में मदद करती है।
  • लिपिड के उच्च स्तर को बढ़ाता है।
  • यह दवा सूजन को ठीक करती है।
  • पथरी के दर्द से भी राहत देती है।
  • यह दवा मांसपेशी ऐंठन होने पर आराम देती है।

नुकसान

  • इस दवा का वैसे तो कोई नुकसान नहीं है,क्यों कि यह आयुर्वेदिक दवा है।
  • इस दवा को बिना डॉक्टर से पूछ कर न लें, क्यों कि हर किसी का शरीर अलग अलग होता है, और दवा का असर भी अलग अलग, तो इसलिए डॉक्टर से पूछ कर है, इस दवा का  इस्तेमाल करें।

कैसे सेवन करें 

इस दवा का सेवन आप इस तरह से करें,सबसे पहले 400 मिलीलीटर पानी लें, और दवा का 5-10 ग्राम मिश्रण लें और पानी में डाल कर  पकाएं। जब केवल 100 मिलीलीटर पानी  बचे तब इसे  छान लें। इस दवा को सुबह खाली पेट और दोपहर के खाने के 2 -3  घंटे बाद खाली पेट ले।

पथरी की वैकल्पिक दवाएं 

ProductDetailOffer
Marc uro 5

Marc uro 5

  • यह ब्लैडर, किडनी से पथरी को यूरीन के रास्ते से निकाल देता है।
  • ₹180
Add to Cart
Kapiva Stone Go Juice

Kapiva Stone Go Juice

  • यह इम्यूनिटी, ओर पाचन भी ठीक रखता है, साथ ही पथरी को यूरिन के रास्ते से निकालता है।
  • ₹400
Add to Cart
Baidyanath Pathreena Syrup

Baidyanath Pathreena Syrup

  • पथरी को निकालता है।
  • क्षमता – 200ml
  • शेल्फ लाइफ: 700 दिन
  • इसमें मूत्रवर्धक प्रभाव खुराक 2 चम्मच दिन में दो बार, या चिकित्सक द्वारा
  • ₹221.90
Add to Cart
Vadira Stone Capsule

Vadira Stone Capsule

  • यह पथरी को टुकड़े टुकड़े कर पेशाब के रास्ते से निकालता है।
  • ₹864
Add to Cart

पथरी से बचाव के तरीके 

Drink water- पथरी की दवा पतंजलि
  • इसके लिए आप ज़्यादा पानी पिए, 3 से 4 लीटर पानी एक दिन में पिए।
  •  अधिक से अधिक तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • बीज वाली सब्जी का सेवन कम करें।
  • डेली योगा व्यायाम करें।
  • अपने खाने में ज़्यादा पोस्ट्रीक आहार का सेवन ही करें ,विटामिन C की ज़्यादा मात्रा न लें।
  • शराब ओर ध्रुवपान कम करें।
  • मांसाहारी खाने का सेवन भी कम करें।

डॉक्टर से कब मिलें?

जब पथरी का दर्द बहुत असहनीय हो , और पेशाब करने में समस्या होने लगे ,तो डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करें। क्यों कि पथरी का दर्द बहुत ही पीड़ादायक होता है । तो जितना जल्दी हो डॉक्टर से मिल लेना चाहिए।

अगर आप जानना चाहते हैं Leucorrhea के बारे में तो पढ़ें: पतंजलि सफेद पानी की दवा- Leucorrhea के कारण और इलाज

पथरी से सम्बंधित सवाल

पथरी की सबसे अच्छी दवा कौन सी है?

पथरी की सबसे अच्छी दवा यूआरओ-05 जो एक हर्बल दवा है ,इस दवा से  पथरी टुकड़े टुकड़े होकर निकलती  है।
इस दवा का सेवन करने के लिए डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।बिना डॉक्टर के दवा का प्रयोग न करें ।

पथरी में कौन कौन सी सब्जी नहीं खानी चाहिए?

पथरी होने पर इन सब्ज़ियों को नहीं खाना चाहिए,जैसे  टमाटर, बैंगन, चुकंदर, ब्रोकली, भिंडी, पालक, शकरकंद आदि और इससे बढ़िया यह है, कि आप बीज वाली सब्जियां न खाए।

गुर्दे की पथरी का क्या इलाज है?

गुर्दे की पथरी को आप घरेलू इलाज से भी ठीक कर सकते है,जैसे तुलसी के पत्ते का सेवन, खजूर, खीरा, अनार का जूस ऐसे कई अन्य चीज़े भी है, जो पथरी का इलाज करती है ।

गुर्दे की पथरी का ऑपरेशन कैसे होता है?

गुर्दे की पथरी के ऑपरेशन के लिए लेज़र के उपकरणों से निकली जाती है, जैसे  रेट्रोग्रेड इंट्रा रीनल सर्जरी में किडनी से पथरी निकालने के लिए रेनोस्कोप को यूरिन के रास्ते से किडनी तक पहुंचाया जाता है और  फिर लेजर  से पथरी के टुकड़े-टुकड़े करके बाहर निकाल देता है। 

आखरी शब्द 

पथरी की  समस्या बहुत ही पीड़ादायक होती है, अगर इसका दर्द शुरू हो जाए, लेकिन  ऐसा भी नहीं है, कि आप इसका इलाज नहीं कर सकते, पथरी के दर्द का इलाज भी मुमकिन है,जो हमने आपको ऊपर बताया है, पथरी के इलाज लिए आजकल बहुत सी तकनीक आ गई है, जो पथरी को निकालने में मदद करती है।

और पथरी के इलाज में खान पान का ध्यान भी ज़रूरी है, क्यों कि बिना सही खान पान के आप पथरी का जड़ से निपटारा नहीं कर पाएंगे। पर अगर सही इलाज की बात की जाए तो आयुर्वेदिक इलाज सबसे बढ़िया होता है, क्यों कि उसका कोई गलत प्रभाव नहीं होता है।

ऐसे ही हमने आपको एक पथरी की दवा पतंजलि की जानकारी दी,जिसके लाभ भी है।साथ ही अगर आपको पथरी के बारे में पता चलता है, तो आप पतंजलि के डॉक्टर से संपर्क कर सकते है। और इस दवा का इस्तेमाल करने से आप पथरी से निजात भी पा सकते है।

तो इस पतंजलि पथरी की दवा का इस्तेमाल कर आप अपनी पथरी और पथरी के दर्द से छुटकारा पा सकते है,तो इस्तेमाल ज़रूर करके देखें।

Leave a Comment