पतंजलि सफेद पानी की दवा- Leucorrhea के कारण और इलाज

ल्यूकोरिया (सफेद पानी) की बीमारी को महिलाएं नजरंदाज करती है,क्यों कि इस बीमारी को लेकर झिझक होती है,पर ऐसा नहीं करना चाहिए,क्यों कि यह आगे चलकर गंभीर भी ही सकता है ।

पहले तो इसके बारे में जानना ज़रूरी है, और यह होती कैसे है? ओर इसके इलाज क्या है?जो हम आज आपको बताने वाले है ।

पर घबराने की जरूरत नहीं है,यह समय रहते ठीक की का सकती है। ऐसे ही हम आपके लिए एक दवा का विवरण लाए है,जो पूरी तरह आयुर्वेदिक चीज़ों से बनी है ।पतंजलि सफेद पानी की दवा इस ब्रांड का नाम तो सुना ही होगा ।यह आयुर्वेदिक चीजों के लिए जाना जाता है।

ऐसे ही पतंजलि द्वारा निर्मित सफेद पानी की दवा है,जो आप मार्केट में उपलब्ध है। लेकिन साथ ही इस दवा के बारे में जानना भी जरूरी है, क्यों कि कोई भी दवा को जाने बिना नहीं खरीदना चाहिए। इसलिए आज हम अपने लेख में पतंजलि सफेद पानी की दवा ओर इस बीमारी से जुड़ी बातों की जानकारी अपने इस लेख से आपको देंगे।

तो आशा करते है,इस लेख की जानकारी आपको अच्छी लगे और उपयोगी भी हो।


क्या होती है सफ़ेद पानी की समस्या (Leucorrhea)?

सफेद पानी की समस्या योनि  से सफेद, चिपचिपा और बदबूदार डिस्‍चार्ज आने को  लिकोरिया कहते है।  यह निजी अंगों की साफ-सफाई न रखने और यौन मार्ग में संक्रमण आदि की वजह से योनि से सफेद पानी आने लगता है।

what is leucorrhoea-पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा

Leucorrhea- सफ़ेद पानी की दिक्कत के क्या कारण हैं? 

सफेद पानी  मासिक धर्म में पहले या बाद में थोड़ा बहुत  मात्रा में निकलना है,जो  सामान्य बात है, लेकिन अधिक मात्रा में हो तो ये कारण हो सकते हैंः-

  • यह उन महिलाओं में होता है ,जिनमें  पोषण की कमी, योनि की अस्वच्छता, खून की कमी और तला हुए तेज मसालेदार भोजन करती हो ,जिसकी वजह से सफेद पानी की दिक्कत होती है ।
  • यह कॉपर टी के लगे होने से भी होता है ।
  • सफेद पानी का कारण यह भी है , कि योनि में ‘ट्रिकोमोन्स वेगिनेल्स’ नामक  बैक्टीरिया के कारण ल्यूकोरिया होता है।
  • ऐसा तब भी होता है ,जब  गर्भपात होता है ,या करवाया जाता है ।
  • यह डायबिटीज रोग से ग्रस्त  महिलाओं  में भी होता है।जो  योनि में फंगल यीस्ट नामक संक्रामक रोग के कारण  होता है।
  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होने के वजह से भी सफेद पानी की समस्या होती है ।
  • ज़्यादा तनाव एवं अत्यधिक मेहनत करने से भी यह होता है।

सफ़ेद पानी का इलाज 

  • केले का सेवन करने से यह जल्दी ठीक हो जाता है ।
  •  सफेद पानी के इलाज के लिए  जमीन की छाल को सुखाकर पीस लें। इस चूर्ण को दिन में दो बार पानी के साथ लें जिससे यह ठीक होता है।
  • नीम की छाल को सुखाकर फिर उसे पीस ले, और फिर शहद के साथ सेवन करें।
  • अगर आपको इससे जल्दी निजात चाहिए तो आप एलोपैथी इलाज भी करवा सकते है पर दवा का सेवन भी ठीक नहीं रहता है ।

आहार

Healthy food-

ल्यूकोरिया में  इन आहार का सेवन करना चाहिए।

  • ल्यूकोरिया में महिलाओं को हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।
  • नींबू पानी दिन में पिए। और पानी ताजा या गर्म, जिस तरह का पी सके, किशमिश-मुनक्का भिगोकर खाए।
  • पुराने गेहु की रोटी, सिंघाडे का आटा, पुराने चावल, चावल का मांड, दलिया, देसी गाय का दूध, घी, छाछ, मक्खन, अरहर, मूंग की दाल, कच्चे केले की सब्जी खानी चाहिए।
  •  कच्ची सब्जी के रस, सब्जी का सूप, फल व फलों के रस, अदरक-काली मिर्च-इलायची की चाय,
  • ल्यूकोरिया में सिंघाड़े का हलवा भी लाभ देता है ।
  • पके केले और शहद मिलाकर खाना भी अच्छा होता है ।
  • ल्यूकोरिया में रोगी को ताज़ा फल खाना चाहिए ,जैसे चुकंदर, फालसा, केला, अंगूर, नारंगी, सेब, चीकू, मौसमी आदि बहुत लाभकारी होते हैं।  
  • मसूर की दाल खाना भी अच्छा होता है, यदि अंकुरित मसूर खाने से भी बहुत जल्दी आराम मिलता है ।

और पढ़ें: पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल के फायदे और नुकसान


योग और आसन 

advantage of Yoga in leucorrhea- पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा

शीर्षासन

यह आसन को सुबह-सुबह करना चाहिए। आसन को करने शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक से होता है। जिससे आपके बाल हेल्दी रहते है  और साथ ही शरीर मजबूत होता है ।ओर ल्यूकोरिया की समस्या को भी ठीक करता है। इस  योग को  गर्ववती महिला न करे और गंभीर बीमारी से पीड़ित व्यक्ति भी न करें।

  • इस आसन को करने के लिए सबसे पहले व्रजासन की मुद्रा में बैठ जाए।
  • इसके बाद अपने दोनों हाथों की अंगुलियों को इंटरलॉक करते हुए,नीचे बैठ जाए।
  • फिर हथेली को कटोरी के आकार में मोड़ें और अपने सिर को झुकाकर हथेली पर रख दे। और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाएं। 
  • इसके अलावा आप अगर योग की शुरुआत कर रहे हैं तो किसी व्यक्ति या फिर दीवार का सहारा ले सकते हैं। शरीर का बैलेंस बनाकर रखें।
  • इस मुद्रा में कुछ देर रहने के बाद आराम से पैरों को नीचे कर लें। 

सर्वांगासन

इस आसन से ब्लड सर्कुलशन अच्छा रहता है।

  • इस आसन के लिए योग मैट में सीधे लेट जाएं।
  • इसके बाद कमर के नीचे से धीरे-धीरे ऊपर की तरफ उठाएं और 90 डिग्री का आकार बनाएं।
  • इसके साथ ही अपने कमर को अपने हाथों से पकड़ लें।
  • इस स्थिति में थोड़ी देर रूके। इसके बाद फिर पहले वाली  मुद्रा में वापस आ जाए।

ब्रह्मचर्यासन

मासपेशियों को आराम मिलता है, और पेट के लिए भी अच्छा होता है। जिसको बैकबोन में परेशानी है ।

  • इस योगासन के लिए वज्रासन की स्थिति में बैठ जाए।
  • इसके बाद अपने दोनों पैरो को बगल की ओर बाहर निकाल दें और हिप्स को जमीन में रख लें।
  • इसी अवस्था में थोड़ी देर बैठे रहें।

सुप्त वज्रासन

  • इस आसन के लिए वज्रासन की अवस्था में बैठ जाए।
  • इसके बाद अपने शरीर को धीरे-धीरे पीछे की ओर झुकाते हुए पीठ के बल लेट जाए। इसके बाद अपने सिर को पीछ की ओर झुकाने की कोशिश करे।
  • यानी आपका पूरा शरीर धनुष की कमानी की तरह होना चाहिए।
  • इस स्थिति में अपने हाथों को जांघों के ऊपर ही रखें।
  • करीब 5 मिनट इस अव्सथा में रहने के बाद धीरे से नॉर्मल स्थिति में आ जाए। 

पतंजलि सफेद पानी की दवा- Patanjali Ayurveda Pradarsudha

यह सिरप स्त्री रोग को ठीक करने में मदद करती  है। पतंजलि सफेद पानी की दवा के सारे इंग्रेडिएंट्स आयुर्वेदिक है ,जो लाभकारी होते है। यह सफेद पानी या व्हाइट डिस्चार्ज समस्या को ठीक करने के लिए उपयोग आती है, यह समस्या भी कमजोर महिलाओं में ज़्यादा होती है । पतंजलि सफेद पानी की दवा साथ ही इंफेक्शन से भी बचाती है।

पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा - प्रदरसुधा

Pradarsudha – Leucorrhea Syrup

  • Price- ₹80
  • Quantity- 200 mL
  • Treatment – Leucorrhea

Ingredients

  • Lodhra
    यह एक पेड़ की छाल होती है, जो एक  ओषधि है, ओर यह महिलाओं के लिए रोगों को ठीक करती है। यह शरीर के अंदर के प्रयोग व बाहरी प्रयोग के लिए लाभकारी है।
  • Dhataki Phool
    यह फूल है, जिसके लाभ भी कई है, जैसे बुखार, दस्त, ल्यूकोरिया, आंखों के लिए आदि के लिए उपयोगी है।
  • Gudhal Phool
    यह एक तरह का फूल है,जिसे ओषधि के रूप में प्रयोग किया जाता है ,यह ल्यूकोरिया की बीमारी को ठीक करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है, साथ ही यह बालों के लिए भी लाभकारी है।
  • Ashok
    अशोका एक पेड़ होता है ,जिसकी छाल एक आयुर्वेदिक औषधि होती है, जिसका प्रयोग स्त्री रोग को ठीक करने में किया जाता है, यह सूजन, रक्त प्रदर, श्वेत प्रदर Leucorrhea, दर्द, पेशाब में दर्द आदि में लाभकारी है।
  • Nagkeshar
    यह फूल आयुर्वेदिक है, जिसका प्रयोग कई रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है, यह सफेद पानी की बीमारी में उपयोगी है। 
  • Shatavari
    यह शतावरी दवा बहुत ही लाभकारी है ,यह मधुमेह ,कैंसर,कब्ज आदि को ठीक करती है। यह साथ ही गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय की मांसपेशियों को बहुत ही अच्छा आराम देती है, ओर सफेद पानी को भी रोकती है।
  • Udumbar
    यह एक तरह का फल होता है,जिसे गूलर कहा जाता है ,यह सफेद पानी की समस्या व मासिक धर्म से जोड़ी समस्या को भी ठीक करता है ।

फायदे और नुक्सान

फायदे

  • यह दवा सफेद पानी की समस्या को ठीक करता है ।
  • यह दवा  शरीर के खून  की गन्दगी को साफ़ करता है।
  • इस दवा में  एसट्रिनजेंट( astringent )होता है ,जो  ब्लीडिंग डिसऑर्डर में लाभकारी ओर असरदार होता है ।
  • इस दवा का सेवन करने से मासिक धर्म (menstrual disorders) के समस्या में भी लाभकारी है।
  • यह दवा गर्भाशय का टॉनिक uterine tonic है और गर्भाशय को बल देता है,जो ज़रूरी होता है, गर्भवती महिलाओ के लिए ।
  • यह दवा एक तरह से पाचक है,जो पेट ठीक रखता है ।
  • इस दवा का सेवन करने से इस दवा का असर यूटरस (uterus) पर ज़्यादा होता है।
  • यह दवा स्त्री रोगों को ठीक करती है।
  • यह महिलाओं में रक्त प्रदर भी कम करती है ।

नुक्सान

  •  इस दवा को आप सही मात्रा में लेना चाहिए ,नहीं तो यह गलत असर कर सकती है।
  • इस दवा से कुछ लोगों को  पेट में जलन हो सकती है।
  • इस दवा को गर्भावस्था और स्तनपान कराने वाली महिलाएं  डॉक्टर से बिना पूछे इस दवा का सेवन न करें।
  • अगर आपको किसी तरह की एलर्जी हो तो आप डॉक्टर से पूछे बिना इस दवा का सेवन न करें।

कैसे सेवन करें 

इस दवा को दिन में 1-2 टेबल स्पून दो बार, सुबह और शाम लें और  भोजन करने के बाद ही लें। पतंजलि सफेद पानी की दवा का प्रयोग करने के लिए  डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें।


सफ़ेद पानी की वैकल्पिक दवाएं

ImageProductDetailPrice
Dabur Drakshavaleha

Dabur Drakshavaleha

  • यह दवा पाचन, एनीमिया,ल्यूकोरिया आदि में उपयोगी    है।
  • Price- ₹ 484
  • Pack of 2
Add to Cart
Resokh Ayurvedic medicine

Resokh Ayurvedic medicine

  • यह दवा ल्यूकोरिया, मेट्रोरागिया और सफेद जननांग डिस्चार्ज  के लिए बहुत ही फायदेमंद होती है।
  • ₹ 350
Add to Cart
Namyaa

Namyaa

  • यह हार्मोनल बैलेंस को बनाए रखने में मदद करता है।
  • यह मासिक धर्म की अनियमितता को सही करता है।
  • इंग्रेडिएंट्स – एलो वेरा, पिप्पली, करंजा, कृष्णा-तिला, कुल्था और अन्य दुर्लभ जड़ी बूटियां।
  • ₹ 427
Add to Cart

डॉक्टर से मिलें 

यह समस्या जब ज़्यादा समय तक रहे तो आप डॉक्टर से जल्द ही संपर्क करें , क्यों कि फिर यह आगे परेशानी भी करता है । इसलिए डॉक्टर से मिला ज़रूरी हो जाता है। 


इन बातों का रखें ध्यान

leukorrhea- पतंजलि सफ़ेद पानी की दवा
  • यह दवा का कम मात्रा में सेवन करें नहीं तो यह नुकसान भी कर सकता है ।
  • अपने शरीर को अच्छे से साफ रखें, और योनिमार्ग को  पानी से सही तरह से   साफ करें।
  • अंडरगार्मेंट (अंतवस्त्र) सूती कपड़ों के  पहने चाहिए। और नियमित रूप से रोजाना बदलना चाहिए।
  • गर्भपात के लिए अधिक दवाइयों का सेवन ना करें ,जो यह समस्या को उत्पन कर सकता है ।
  • मासिक धर्म के समय साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना जरूरी होता है ।
  • हर 4-6 घण्टे में पैड बदलना चाहिए और सही तरह के  पैड्स का इस्तेमाल  करें।

और जानिये क्या हैं पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे?

Leucorrhea और पतंजलि सफेद पानी की दवा से सम्बंधित सवाल 

सफेद पानी गिरना कैसे बंद होगा?

इसके लिए सबसे बढ़िया उपाय आंवला है,जो एक तरह से आयुर्वेदिक भी है , और इससे कोई नुकसान भी नहीं होता , इसे सुखाकर चूर्ण बना लें और 3 महीने तक इसका सेवन करें ,सफेद पानी गिरना बंद हो जाता है ।

सफेद पानी आने से क्या नुकसान होता है?

सफेद पानी आने से यह होता है , कि हाथ-पैरों में दर्द होना ,कमर में दर्द, पिंडलियों में खिंचाव, शरीर भारी रहना, ओर साथ  ही   चिड़चिड़ापन रहता है। इस बीमारी  में स महिलाओं  के योनि  से सफेद, चिपचिपा, गाढ़ा, बदबूदार स्राव होता है ।

सफेद पानी की सिरप कौन सी है?

नागपाल आयुर्वेदा  रानी अमृत सिरप ल्यूकोरोरिया,पीरियड समस्या,शरीर की कमजोरी और सफेद पानी की  समस्या को ठीक करता है । 

सफेद पानी आने से क्या होता है?

सफेद पानी जो निजी  अंगों की साफ-सफाई न रखने की वजह से  यौन मार्ग में संक्रमण आदि की वजह से योनि से सफेद पानी आने लगता है।तो एक बीमारी की और संकेत करता है,अगर समय रहते इलाज नहीं किया जाए।

महिलाओं के लिए सबसे अच्छा सिरप कौन सा है?

शील (sheel) टॉनिक यह महिलाओं के लिए अच्छी सिरप है ,पर आप यह खरीदने से पहले डॉक्टर से संपर्क ज़रूर करें।

सफेद पानी में क्या खाना चाहिए?

खिचड़ी ,चावल , दाल ,सब्जी ,फल आदि का सेवन करें,जो आप रोजाना खाते है,उसे समयानुसार खाना चाहिए।

आखरी शब्द 

सफेद पानी की बीमारी को अक्सर औरतें अनदेखा करती है, जो कि गलत है, क्यों कि यह शरीर के अंदर बहुत ही  नुकसान करती है, और इससे कई समस्या भी होती है ।

हमने अपने लेख में जानकारी दी है, इस बीमारी के बारे में व साथ में इसके उपचार जैसे की पतंजलि सफेद पानी की दवा जिसे

आप अजमा कर सफेद पानी की बीमारी को ठीक कर सकते है।

इसके साथ ऐसे रोग के लिए आयुर्वेदिक दवा ही बढ़िया होती है, जो पतंजलि सफेद पानी की दवा है, जिसे आप अच्छे से जानकर और इसके फायदे को समझ कर इस दवा का इस्तेमाल करेंगे।

और अगर ऐसी समस्या से आप जुझ रहे है, तो पतंजलि डॉक्टर  से संपर्क करना ना भूलें। क्यों कि ऐसी बीमारी के लिए सही दवा और उपचार की आवश्यकता होती है, और हमने आपको उनमें से कई बताई भी है।

Leave a Comment