क्या हैं पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे?

हर कोई अपने को स्वस्थ रखने के लिए कुछ न कुछ करता ही है, चाहे वो वो शरीर के अंदर से जोड़ी हो या फिर बाहर, हर किसी बीमारी मुक्त रहना पसंद है लेकिन ऐसा कहा जाता है, कि यह एक चीज़ से मुमकिन नहीं है, इसके लिए अलग अलग उपाय व दवा का प्रयोग करना पड़ता है, तब जाकर व्यक्ति स्वास्थ्य रहता है।

और आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में यह सब कर पाना मुश्किल रहता है। इसलिए आज हम आपको पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे के बारे में बताएंगे।

पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदेPatanjali juice

पर मुश्किल ज़रूर है, मुमकिन नहीं हम  आपको  एक ऐसा प्रोडक्ट के बारे में बताने जा रहे है ,जो आपको अंदर से स्वस्थ ओर बाहर से सुंदर बनाए। यह प्रोडक्ट पतंजलि द्वारा निर्मित है ,जो गिलोय से बना है, जिसे आप मार्केट में आसानी से खरीद सकते है, यह प्रोडक्ट का नाम पतंजलि गिलोय स्वरस है, जो पूर्ण रूप से हर्बल व शरीर के लिए फायदेमंद है। जिससे आपके शरीर के रोग दूर होते है व ठीक भी होते है। यह एक तरह की आयुर्वेदिक ओषधि है। जिसका कोई हानिकारक तत्व नहीं है।

तो अब इसके बारे में हम आपको ओर गहराई से बताते है, जिससे इसके अनेक फायदे आप जान सकेंगे।

इस लेख को पूरा पढ़िए और जानिए पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे जो आपको रखे बीमारियों से दूर।

गिलोय क्या है?

Giloy ke fayde

गिलोय एक तरह का पौधा है, यह वैसे  एक झाडीदार लता यानी बेल होती है, इसके  पत्ते चिकने होते है  और पान  के आकार के  होते हैं। इसकी बेल पीले सफेद रंग की होती है। गिलोय कभी सूखती या खत्म  नहीं होती है, ओर अगर  इसे काट भी दिया जाए तो यह फिर उग जाते है। यह एक तरह की आयुर्वेदिक ओषधि के रूप में इस्तेमाल की जाती है। इसके अनेक फायदे हैं और इसे एक तरह से अमृत कहा जाता है ,जो शरीर के कई रोगों को ठीक करती है।

गिलोय कहा पाया जाता है?

गिलोय वैसे तो भारत में सभी जगह  पर पायी जाती है। कुमाऊँ से आसाम तक, बिहार तथा कोंकण से कर्नाटक तक गिलोय मिलती है। गिलोय ज़्यादातर तो खेतों की मेंड़, जंगल, घर के बगीचे यह  कहीं भी इसकी बेल प्राकृतिक रूप से  उग जाती  है। यह नीम और आम आदि के वृक्षों पर फैली हुई ज़्यादा देखने को मिलती  है।

गिलोय के फायदे और नुकसान 

फायदे

  • यह आंखों की रोशनी को लाने में मदद करता है ओर साथ ही ठीक भी करता है ।
  • इसका प्रयोग कान से संबंधित रोगों को ठीक करने के लिए किया जाता है ।
  • वैसे इसका सेवन करने से हिचकी रुक  जाती है ।
  • टीबी के मरीजों के लिए भी गिलोय अच्छा होता है ,यह इस बीमारी के लिए लाभकारी है ,जो टीबी को ठीक करने में मदद करता है ।
  • इसके सेवन से उल्टी ओर कब्ज व बवासीर की समस्या भी खत्म हो जाती है ।
  • यह पीलिया ,मधुमेह और लिवर से संबंधित समस्या को ठीक करती है ।
  • गिलोय के सेवन से दिल की समस्या ओर बुखार भी ठीक होता है ।

नुकसान

  • गिलोय मधुमेह की बीमारी को  कम करता है,इसलिए इसका सेवन  कम डायबिटीज (मधुमेह)  की समस्या वाले न करे।
  • गर्भावस्था के दौरान  इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • वैसे गिलोय का सेवन डॉक्टर से या आयुर्वेदिक डॉक्टर से कर के ही लें।

पतंजलि गिलोय स्वरस

पतंजलि गिलोय स्वरस एक तरह का सुरक्षित व आयुर्वेदिक प्रोडक्ट है ,जो गिलोय के रस से बना है। गिलोय में ऐसे कई तत्व है,जो हमारे शरीर के लिए बहुत अच्छे है ,जैसे गिलोइन, पामेरिन ओर टीनोस्पोरिक एसिड पाया जाता है। साथ ही इसमें ओर तत्व है ,जैसे  कॉपर, आयरन, फॉस्फोरस, जिंक, कैल्शियम और मैग्नीज आदि भी मिलते है। ओर कई बीमारियों में पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे है ।

Giloy juice

पतंजलि गिलोय स्वरस

  • Quantity 500 ml
  • पतंजलि गिलोय जूस price – ₹90
  • Flavor: Giloy
  • Shelf Life: 12 Months
  • Container Type: Plastic Bottle
  • Organic

पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे

  • पतंजलि गिलोय स्वरस से पाचनतंत्र ठीक होता है ,कब्ज की समस्या नहीं होती है,साथ ही यह भूख बढ़ाने में मदद करता है।
  • यह टीबी का रोग भी ठीक करता है ,ओर साथ ही यह मलेरिया ,डेंगू  ओर वायरल बुखार आदि में दिया जाता है ,जो ठीक होने में मदद करता है ।
  • गिलोय का जूस आंखों के लिए अच्छा होता है ,यह आंखों की रोशनी बढ़ाता है ।
  • साथ ही यह चेहरे के लिए भी लाभदायक है ,यह बढ़ती उम्र में होने वाली समस्या जैसे एंटी एजिंग,रिकल आदि में उपयोगी है ओर ठीक भी करता है ।
  • गिलोय का जूस पीने से अस्थमा और खासी भी ठीक होती है ।
  • पतंजलि गिलोय स्वरस इम्यूनिटी बढ़ाने में मदद करता है ।

पतंजलि गिलोय घनवटी

दिव्य गिलोय घन वटी एक बहुत ही  प्रोडक्ट है,  यह वटी इस तरह से तैयार की गई है , कि यह पोषित  करके शरीर की ऊर्जा और ताकत को बढ़ाने में मदद करता है। यह इम्यून सिस्टम के लिए भी बहुत  ही अच्छी दवा है ,जो शरीर को कई संक्रामक बीमारियों से बचाता है।ओर इस दवा के लाभ भी अनेक है,जो शरीर के लिए अच्छे है ।

Giloy_Ghanvati

पतंजलि गिलोय घनवटी

  • गिलोय घनवटी पतंजलि price ₹200
  • Quantity: 40 gm
  • Treatment: Immunity Booster
  • Food Preference- Vegetarian

पतंजलि गिलोय घनवटी के फायदे

  • इस दवा का उपयोग बुखार में बहुत  फायदेमंद होता  है। 
  • पतंजलि गिलोय घन वटी इम्युनिटी बढ़ाने के लिए उपयोगी दवा है। 
  • सामान्य दुर्बलता में गिलोयघन वटी का इस्तेमाल करना अच्छा होता है । 
  • त्वचाके लिए भी यह दवा अच्छी है ।
  • मूत्र विकारों में  गिलोयघन उपयोगी होती है ओर ठीक भी करती है  । 
  • डेंगू, चिकनगुनिया के लक्षणों को कम करने में गिलोयघन वटी इस्तेमाल करना बहुत ही अच्छा है ।

कैसे करें सेवन 

इस दवा को डॉक्टर से पूछ कर लें ।

इस दवा को 12 साल से ऊपर के व्यक्ति  1 टैबलेट  2  बार प्रतिदिन लें, और  12 साल  के कम आयु के व्यक्ति  आधा टैबलेट दो बार प्रतिदिन लें। ओर दवा को खाना खाने के बाद लें।

पतंजलि गिलोय जूस और पतंजलि गिलोय घनवटी में क्या अंतर है? 

पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे Giloy Herbal properties

पतंजलि की दोनों गिलोय से बनी दवा अच्छी है, यह दोनों ही रोगों को ठीक करती है, लेकिन इनमें अंतर की  बात करें तो वो है ।

पतंजलि गिलोय जूस एक अच्छी दवा है,जो बीमारी ठीक करती है, यह एक तरल पदार्थ में बनाई गई है ,गिलोय के रस को निकाल कर जिसमें कई ऐसे तत्वों का ज़्यादा मात्रा में इस्तेमाल किया गया है ,जो आपको नुकसान कर सकते है। यह पदार्थ इसलिए डाले जाते है ,क्यों कि गिलोय जूस तरल होता है, जिसे थोड़े लंबे समय के लिए रखा जा सके।यह गिलोय जूस खुलने के बाद कम से कम 1 महीना ही चल सकता है। अगर इसके बाद आप इसका उपयोग करते है, तो यह आपको हानि कर सकता है ।

अगर हम पतंजलि  गिलोय घनवटी की बात करें तो यह गोली के रूप में होती है, इसे गिलोय को सुखाकर चूर्ण बनाकर तैयार किया जाता है। इसे लंबे समय तक रखा जा सकता है ,यह जल्दी ख़राब नहीं होता है। इसमें कम मात्रा पर्सेवेटिव चीज़े होती है ,जो आपको कम हानि करेंगी। इस आप  खुलने के बाद 1 साल तक कम से कम प्रयोग कर सकते है ।इसका वैसे शरीर पर कम हानि होती है ।

पर आपको इस दवा से जल्दी असर चाहिए तो आप पतंजलि गिलोय जूस का सेवन करें,पर अगर इसमें से बेस्ट दवा की बात की जाए तो आपका पतंजलि गिलोय घनवटी का प्रयोग करना सही रहेगा ।

गिलोय से सम्बंधित प्रष्न 

गिलोय का रस कितना पीना चाहिए?

पतंजलि गिलोय स्वरस ग्लास के हिसाब से आधा ग्लास पीना चाहिए ओर कप के हिसाब से 1 कप।

गिलोय कब और कैसे पीना चाहिए?

यह वैसे तो शरीर के लिए अच्छा होता है,इसे आप नियमित रूप से भी पी सकते ओर अगर बुखार या इम्यूनिटी कम हो तब  भी इसका सेवन कर  सकते है, और इसको आप रस, काढ़ा व मार्केट में गोलियां आती है इस तरह से ले सकते  है।

गिलोय का जूस पीने से क्या फायदा होता है?

गिलोय का जूस पीने के फायदे तिह बहुत है ,जैसे  सांस से जोड़े  रोग, अस्थमा और खांसी में फायदा करती है। और इसे आप नीम और आंवला के साथ मिलाकर उपयोग करने से त्वचा संबंधी रोग भी दूर किए जाते है। इसके साथ ही सूजन कम करने, गठिया और आर्थेराइटिस से बचाव में बहुत फायदेमंद है।ऐसे इसके जूस के बहुत से फायदे है।

गिलोय की तासीर क्या है?

इसको तैयार करने के लिए अलग अलग तरह की सामग्री का भी प्रयोग किया जाता है। यह गिलोय की तासीर  गर्म होती है। इसलिए ठंड से संबंधित बीमारियों से बचने में इसका उपयोग अधिक किया जाता है। गिलोय लगभग सभी तरह के  फीवर और सर्दी-जुकाम में लाभदायक होता है। वैसे इसका प्रयोग ज़्यादा  डेंगू में घटती प्लेटलेट्स को कंट्रोल करने में इस्तेमाल किया जाता है ।

आखरी शब्द 

पतंजलि गिलोय स्वरस एक ऐसी आयुर्वेदिक दवा है ,जो आपकी बीमारी को ठीक करता है। पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे बहुत है, साथ ही इस जूस का असर भी जल्दी होता है, इसका सेवन नियमित रूप से करें तो यह बीमारियों को जल्दी ठीक करता है।

इस दवा का प्रयोग कर के देखे जिससे आपको इसका फायदा हो। ओर तो गिलोय  इतनी आसानी से भी नहीं मिलता है, पर पतंजलि ने गिलोय स्वरस बनाया है, जिसका सेवन हर कोई आसानी से कर सकता है ।तो इस दवा का सेवन ज़रूर करें और अपने रोगों से मुक्ति पाएं।

2 thoughts on “क्या हैं पतंजलि गिलोय स्वरस के फायदे?”

Leave a Comment