Blog

इन 8 संकेतों से पहचाने महिलाओं में शुगर के लक्षण और उपाय|

महिलाओं में शुगर के लक्षण : वैसे तो शुगर या डायबिटीज होना आम बीमारी है, और आप लोग इस बीमारी से परिचित भी हैं। काफी लोग इस बीमारी से जूझ रहे हैं। शुगर के बारे में मैंने आपको पहले भी बताया है। लेकिन आज मैं यहाँ आपको महिलाओं में शुगर के लक्षण क्या है।

डायबिटीज होने पर शुरुआत में कई प्रकार के लक्षण दिखने लगते हैं। यानि जब यह बीमारी व्यक्ति के शरीर को प्रभावित करती है तो वह व्यक्ति कई प्रकार के स्वास्थ समस्याओं से जूझने लगता है।

anemia cells

लेकिन काफी लोग इन समस्याओं को आम समझ कर नजरंदाज करने लगते हैं। और इसी लापरवाही के वजह से व्यक्ति धीरे-धीरे शुगर जैसी बीमारी से ग्रस्त हो जाता है। शुगर होने पर किडनी, और आँखों पर सबसे अधिक फर्क पड़ता है।

शुगर होने पर शुगर के साथ-साथ शरीर में और भी तरह-तरह की बीमारियाँ अपना घर बना लेती हैं। जिसकी वजह से व्यक्ति हमेशा परेशान रहने लगता है। शुगर होने पर बहुत से खान-पान वाली चीजों पर रोक लग जाती है, जो सबसे अधिक कष्टदायी होता है।

यदि व्यक्ति इन शुरुआती लक्षणों को नजरअंदाज ना करें तो वह शुगर जैसी बीमारी को होने से रोक सकता है। शुगर महिलाओ और पुरुषों दोनों में देखने को मिलता है। लेकिन आजकल महिलायें शुगर का शिकार अधिक हो रही हैं।

इसलिए मैं इस पोस्ट में आपको महिलाओं में शुगर के लक्षण को विस्तार बताने जा रही हूँ। जिससे की व्यक्ति शुरुआत में ही पता लगा लें और शुगर होने से बच सकें। यदि व्यक्ति को 7 से 8 लक्षण दिखे तो व्यक्ति को तुरंत डॉक्टर से चेक करा लेना चाहिए।

तो चलिए जानते हैं महिलाओं में शुगर के लक्षण और शुगर के उपचार के तरीके|

ये भी पढे: पारिजात है औषधीय गुणों से भरपूर, जानिये-हरसिंगार के फायदे और नुकसान

डायबिटीज क्या है?

डायबटीज यानि की शुगर आजीवन रहने वाली बीमारी है। यह एक उपापचय विकार है, जिसमे व्यक्ति के शरीर के खून में ग्लूकोज यानि शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है। इस बीमारी मे व्यक्ति के शरीर में पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन नहीं बन पाता है। और शरीर की कोशिकाएं इंसुलिन को बनाने में ठीक से प्रक्रिया नहीं कर पाती हैं।

शरीर में इंसुलिन का बनना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यह एक प्रकार का हार्मोन है। जिसका निर्माण अग्नाशय में होता है। आमाशय कार्बोहाइड्रेट्स को रक्त शर्करा में परिवर्तित करता है। और इंसुलिन के जरिए से यह रक्त शर्करा ऊर्जा में परिवर्तित होती है, और फिर कोशिकाओं को ऊर्जा मिलती है।

लेकिन जब शरीर इंसुलिन बनाना बंद कर देता है या इंसुलिन पर्याप्त मात्रा नहीं बन पाती है। तो यह शर्करा रक्त में इकट्टा होने लगती है, और यह शर्करा ऊर्जा में परिवर्तित नहीं होती है तो, शुगर जैसी बीमारी उत्पन्न होती है।

डायबिटीज के प्रकार

डायबिटीज को शुगर और मधुमेह आदि कई नामों से जाना जाता है।

टाइप -1-

यह आमतौर पर बच्चों में होता है। यह  इम्यून सिस्टम पर हमला करता है। जो इंसुलिन बनाने वाली कोशिकाओं को नष्ट कर देता है। यह सबसे खतरनाक होता है। जिसमें इससे पीड़ित मरीजों को अपना रक्त शर्करा को नियंत्रित रखने के लिए रोजाना इन्सुलिन का इन्जेक्शन लेना पड़ता है।

टाइप -2

अधिकतर मरीज इसी तरह के डायबिटीज से पीड़ित हैं। इस तरह का डायबिटीज में शरीर में भरपूर मात्रा में इंसुलिन का निर्माण नहीं हो पाता है। इन शुगर गलत खान-पान और मोटापे की वजह से होता है। कई इस तरह का शुगर आनुवंशिक होता है। यानि आपके परिवार में यदि इससे कोई पीड़ित है तो आपको भी यह किसी न किसी उम्र में होने की संभावना होती है।

ये भी पढ़ें: सेक्स के दौरान वीर्य कम निकलने का कारण क्या है? जानिये वजह|

डायबिटीज की दवा

PATANJALI मधुनाशिनी वटी 120 टैबलेट के साथ (1 का पैक),₹176.00

दिव्य मधुनाशिनी वटी की अतिरिक्त शक्ति मधुमेह की जटिलताओं को दूर करती है। समय के साथ मधुमेह दृष्टि, प्रतिरक्षा, अंगों में ताकत को प्रभावित करता है और त्वचा विकारों और वजन की समस्याओं को जन्म देता है।

पतंजलि की दिव्या मधुग्रिट 60 टैबलेट,₹269.48

दिव्य मधुग्रित टैबलेट मधुमेह और मधुमेह के संक्रमण में उपयोगी है।

Patanjali वाडमैन मधुनाशिनी वती – 120 का पैक, ₹218.44

मधुमेह से संबंधित समस्याओं की शुरुआत को नियंत्रित करने के लिए दिव्य मधुनाशिनी वटी की अतिरिक्त शक्ति लें। दिव्य मधुनाशिनी वटी अतिरिक्त शक्ति प्रतिरक्षा को मजबूत करती है, आपके मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को बढ़ाती है, ऊर्जा को पुनर्जीवित करती है और आपके स्वास्थ्य को पुनर्स्थापित करती है।

महिलाओं में शुगर बढ़ने के क्या लक्षण होते हैं?

आजकल महिलायें में शुगर के लक्षण अधिक देखने को मिल रहे हैं। महिलाओं में शुगर के लक्षण के कई सारे कारण होते हैं। और जब यह बीमारी शुरू होती हैं तो महिलाओं में कई प्रकार के लक्षण दिखने लगते हैं। यदि शुरुआत में ही इन लक्षणों पर ध्यान दिया जाये तो शुगर होने से बचा जा सकता है।

शुरुआत में दिखने वाले महिलाओं में शुगर के लक्षण

तो चलिए इन लक्षणों को अच्छे से जान लेते हैं।

1.#यूरिनरी ट्रैक्ट संक्रमण

यूरिनरी ट्रैक्ट संक्रमण महिलाओ के योनि में होने वाली बीमारी है। इसको UTI के नाम से भी जाना जाता है। यह बैक्टीरिया, फंगस और वायरस से होने वाला संक्रमण है। UTI का संक्रमण महिलाओं के जननांग के अंदर, मूत्रमार्ग, किडनी आदि में कही भी हो सकता है। इस तरह की समस्या होने पर महिलाओं को तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

2.#वजाइना में दर्द और जलन हाेना

कई बार महिलाओं को सेक्स के दौरान या ऐसे ही योनि में दर्द होता है। यह भी शुगर होने का संकेत होता है। ऐसी समस्या में महिलाओं के वजाइना से सफेद और पीले रंग के का पदार्थ निकलता है। अधिक पदार्थ निकलने की वजह से महिलाओं को कमजोरी महसूस होती है, इसके अलावा उनको दर्द भी होता है। ऐसी स्थिति में महिलाओं को तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

3.#वजाइना में खुजली हाेना

शुगर के लक्षण में वजाइना में खुजली होना भी सामील है। शुगर के शुरुआती दिनों में महिलाओं के योनि में संक्रमण हो जाता है, जिसकी वजह से वजाइना में खुजली होने लगती है।

4.#मुंह में सफेद घाव होना

महिलाओं में शुगर होने पर महिलाओं के मुहँ के अंदर कई बार सफेद घाव या फोड़े जैसी समस्या हो जाती है। जिसमें मुहँ के अंदर दाने निकल जाते है, इसके अलावा कई बार मुहँ पक जाता है। इस तरह के लक्षण दिखने पर बिल्कुल भी नज़र अंदाज नहीं करना चाहिए, और तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

5.#गर्भावधि में शुगर के लक्षण

जब महिलायें गर्भ धारण करती हैं तो अस दौरान, महिलाओं को शुगर की समस्या होने पर कोई लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। क्योंकि गर्भवती महिलाओं के अंदर कई प्रकार के हार्मोन्स का बदलाव होता है, जिसके कारण शुगर के लक्षण दिखाई नहीं देते है। इस दौरान महिलाओं को बस बार-बार प्यास लगती है।

6.#बार – बार पेशाब लगना

शुगर की समस्या में आमतौर से अधिक पेशाब लगता है। इस समय महिलाओं को पेशाब लगने पर वो बर्दास्त नहीं कर पाती हैं। और बार-बार पेशाब करने से शरीर के अंदर कमजोरी आ जाती है। यदि आपको भी बार-बार पेशाब जाना पड़ रहा है तो अपने शुगर की जांच जरूर कराएं।

7.#शुगर से आंखों में समस्या

शुगर होने का सबसे बढ़ा लक्षण है आँखों की समस्या होना। शुगर होने पर कम उम्र में ही आँखों में मोतियाबिन्द की समस्या उत्पन्न हो जाती है। जिसमें आँखों का जल्द से जल्द ऑपरेशन कराना पड़ता है। यदि आपको भी आँखों से कम दिखाई से दे रहा या मोतियाबिंद के लक्षण दिखाई दे रहे तो अपने आँखों की जाँच करा लेना चाहिए।

8.#घाव का जल्दी ठीक न होना

शुगर की समस्या होने पर शरीर में कोई भी घाव या चोट लगने पर वो जल्दी ठीक नहीं होता है। शरीर में चोट या घाव लगने पर काफी लंबे समय तक ठीक नहीं होता है।

शुगर के उपाय

मैंने आपको ऊपर शुगर होने पर दिखने वाले लक्षणों को विस्तार से समझाया। चलिए अब जान लेते हैं की ऐसे लक्षणों के दिखने पर आपको क्या उपाय अपनाना चाहिए। शुगर के शुरुआती लक्षण दिखने पर आप कुछ घरेलू उपाय अपना कर इससे बच सकती हैं।

शुगर के घरेलू नुस्खे

करेले से शुगर का इलाज

करेला शुगर के इलाज मे बहुत अधिक लाभकारी होता है। शुगर के लक्षण दिखने पर आपको मीठा खाना बंद कर देना चाहिए। रोजाना सुबह खाली पेट करेले का जूस पीने से शुगर में बहुत अधिक लाभ मिलता है।

मेथी के दाने

मेथी के दाने शुगर को रोकने में बहुत अधिक फायदेमंद होता है। रात को मेथी के दानों को भिगो कर रख दें। और सुबह होने पर उनको चबा कर खायें। ऐसा रोजाना करने पर आपको शुगर को रोकने मे काफी मदद मिलेगी। ध्यान रहे की मेथी को बहुत अधिक मात्रा में ना खायें।

जामुन से शुगर का उपचार

जामुन के पत्ते और बीज दोनों का शुगर को रोकने मे इस्तेमाल किया जाता है। जामुन के पत्तों को पीसकर इसको छान लें और रोजाना आधा चम्मच पिए। इसके अलावा जामुन के बीजों को सुखाकर आप उसका चूर्ण बना कर भी सेवन कर सकते हैं।

ग्रीन टी

रोजाना ग्रीन का सेवन करने से भी आप अपने शुगर को कंट्रोल कर सकते हैं।

व्यायाम

व्यायाम हर बीमारी का रामबाण इलाज है। शुगर को रोकने के लिए सुबह-सुबह उठ कर रोजाना 30 मिनट तक टहलने और अनुलोम विलोम करने से शुगर नियत्रण में रहता है।

संबंधित प्रश्न:

शुगर की पहचान कैसे करे?

शुगर के शुरुआती दिनों मे कोई भी घाव या चोट लगने पर चोट ठीक नहीं होता है। इसके अलावा शुगर होने पर आँख से ठीक तरह से दिखाई ना देना और मोतियाबिन्द की परेशानी शुरू हो जाती है।

उम्र के हिसाब से शुगर लेवल कितना होना चाहिए?

भोजन करने से पहले एक स्वस्थ व्यक्ति का शुगर लेवल 100 mg/dl से कम होना चाहिए। वहीं पर शुगर से पीढ़ित व्यक्ति का शुगर लेवल 80-130 mg/dl तक होना चाहिए। इसके अतरिक्त भोजन के बाद 140 mg/dl और शुगर से पीढ़ित व्यक्ति का शुगर लेवल 180 mg/dl तक होना चाहिए।

घर पर शुगर कैसे चेक करें?

घर पर शुगर चेक करने के लिए आपके पास शुगर चेक करने वाला किट होना चाहिए।
1- शुगर चेक करने से पहले अपने हाथ धूल कर ठीक से सूखा लें।
2- अब अपनी शुगर जाँच करने वाली मशीन के मीटर में एक टेस्ट स्ट्रिप को रखें।
3- अब टेस्ट किट के साथ मिलने वाली सुई को उंगली में चुभाएं और खून की एक बूंद परीक्षण पट्टी के किनारे पर डालें।
4- अब कुछ सेकेंड रुकें आपको स्क्रीन पर दिखने लगेगा कि आपकी शुगर का लेवल कितना है।

शुगर बढ़ने से क्या परेशानी होती है?

व्यक्ति के शरीर में जब शुगर लेवल बढ़ जाता है, तो उसको बहुत अधिक परेशानी होती है। शुगर बढ़ने से व्यक्ति को निम्न परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
1. शुगर से पीढ़ित व्यक्ति कोई भी मीठी चीज नहीं कहा सकता है।
2. शुगर वाले व्यक्ति को घाव लगने पर वो जल्दी ठीक नहीं होता है।
3. शुगर से पीढ़ित व्यक्ति को आँख में मोतियाबिन्द आदि की समस्या का सामना करना पड़ता है।
4. शरीर में कई प्रकार के संक्रमण हो जाते हैं।

निष्कर्ष

जैसे की मैंने पूरे पोस्ट मे आपको अच्छे से बताया है की शुगर होने पर शरीर में कौन से कौन लक्षण दिखाई देते हैं। आजकल शुगर होना आम बात हो गई है। क्योंकि आजकल के गलत खान-पान के वजह से 100 मे से 80% व्यक्ति शुगर से पीढ़ित है।

इस समस्या से ना केवल पुरुष बल्कि महिलायें भी पीढ़ित है। लेकिन आजकल शुगर की समस्या से अधिक पीढ़ित हैं। इसलिए मैंने महिलाओं में शुगर के लक्षण अच्छे से समझाया है। ताकि जिन महिलाओं को इस तरह के लक्षण दिखाई दे ये जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखा लें, और शुगर से पीढ़ित होने से बच सकें।

उम्मीद है की यह पोस्ट आपके लिए लाभदायक साबित होगा। पोस्ट में बताए गए लक्षण दिखने पर आप बिल्कुल भी लापरवाही ना करें। इसके अलावा पोस्ट में बताए गए शुगर के उपचार को भी आप आजमा सकते है। यदि आपके मन में कोई सवाल हो या आप शुगर से संबधित कोई सुझाव देना चाहते हैं तो आप हमे कमेन्ट करके जरूर बताए।

Leave a Comment